कहानी पूरी फ़िल्मी है लेबलों वाले संदेश दिखाए जा रहे हैं. सभी संदेश दिखाएं
कहानी पूरी फ़िल्मी है लेबलों वाले संदेश दिखाए जा रहे हैं. सभी संदेश दिखाएं

मंगलवार, 6 नवंबर 2018

बम फटने से ठीक पहले - शब्दकोश पूरा फ़िल्मी है!

filmy fun fact
पिक क्रेडिट - pixabay 
आज पेश है फिल्मो में बम फटने से कुछ देर पहले की स्थिति 

1. हर टाइम बम फटने में कम से कम एक घंटे का समय होगा ताकि नायक उसका पता लगाकर लोगों को बचा सके।


2. बमों के हमेशां बड़े कई रौशनी चमकने वाले, आवाज करने वाले टाइमर होते हैं। विलेन के पास इतना वक्त होता है की इस टाइमर में एक घड़ी जरुर लगा दे ताकि देखते ही पता चल जाए की कितना वक्त बचा है।


3. जैसे ही तार कटेगा टाइमर रुक जायेगा, किन्तु ऐसा तब तक नहीं हो सकेगा जब तक सिर्फ एक ही सेकंड बचा हो।


4. हर तार का रंग अलग होगा ताकि नायक को समझने में आसानी हो कि कौनसा तार काटना है।


5. यदि बम अतत: फट ही जाए, ऐसा स्लो मोशन में होगा, नायक उस समय कैमरे की तरफ ही दौड़ता होगा और विस्फोट उसे स्लो मोशन में उछाल देगा।


6. बम चाहे कितना हि बड़ा क्यों ना हो जब वह फटता है तो, नायक या उसके दोस्त भाग जाएंगे, मरना है तो सिर्फ विलेन।


====================================================================
हंसते रहिये विद्वानों का कहना है, हंसने से आदमीं स्वस्थ रहता है। अगर आपको मेरा प्रयास अच्छा लगा तो फेसबुक पेज लाइक कीजिये ताजा अपडेट पाने के लिए। धन्यवाद!

सोमवार, 5 नवंबर 2018

हंसने की कोई वजह नहीं होती।

three-stooges-joe-derita-moe-howard
पिक क्रेडिट - pixabay

नमस्कार मित्रों! जैसा की मैंने शीर्षक में लिखा है कि हंसने की कोई वजह नहीं होती, कुछ भी अटपटा सा लगे तो हँसी छूट जाती है। कई बार तो ऐसा होता है की किसी अच्छी बात पर भी हँसी छूट जाती है। 
ऐसे ही बैठे-बैठे मैंने सोचा क्यों ना दो फिल्मों के शीर्षक को आपस में मिला के कुछ हास्य पैदा किया जाए, और मैंने कुछ हद तक कर भी दिया, आप भी आनन्द लें।
प्रथम फिल्म शीर्षक और द्वितीय, तृतीय फिल्म शीर्षक को मिलाकर बोला जाए तो हास्यस्पद स्थिति होगी।
  1. माँ कसम - दुल्हन हम ले जाएंगे - 
  2. हिंदुस्तान की कसम - पाप को जलाकर राख कर दूंगा
  3. मुझसे शादी करोगी - क्योंकि.. मैंने दिल तुझको दिया 
  4. डरना मना है - क्योंकि.. मैं झूठ नहीं बोलता 
  5. बेवफा सनम - मैंने प्यार क्यों किया
  6. दिल ही दिल में - आशिक बनाया आपने 
  7. कौन? - आशिक आवारा
  8. बेटा - इंसाफ कौन करेगा 
  9. आख़री रास्ता - एक ही रास्ता - आन्दोलन 
  10. हमसे ना टकराना - चालबाज
  11. अलबेला - मस्त - इंडियन
  12. चमेली - प्यार तो होना ही था
  13. सबसे बड़ा खिलाडी - शहंशाह 
  14. झील के उस पार - शैतानी इलाका
  15. आज का रावण - भाई
  16. अपने सामने - डुप्लीकेट 
  17. अलबेला - दीवाना - देवदास 
  18. दलाल - बहुबाली
  19. मैं प्रेम की दीवानी हूँ - दिलवाले 
  20. मार्किट - नो एंट्री
  21. पुलिस ऑफिसर - अजय
  22. जंगबाज - धर्मवीर
  23. हीरो - गोपी किशन 
  24. बीस साल बाद - बरसात
  25. डिस्को डांसर - बंगाल टाइगर 
  26. घायल - गैम्बलर
  27. हत्यारा - अनाड़ी
  28. तेरे नाम - तहखाना 
  29. हम आपके हैं कौन - आशिक - अब तक छप्पन 
  30. आवारा पागल दीवाना - दिल 
  31. नाम - मी. नटवरलाल
  32. साजिश - मेरी जंग 
  33. हीरो नम्बर वन - खतरनाक - खिलाड़ी 
  34. चाइना गेट - भुत बंगला 
  35. चिंगारी - शोले - आग - आग ही आग 
  36. बंधन - कच्चे धागे 
  37. गर्लफ्रेंड - डाकू हसीना
  38. विवाह - चलती का नाम गाड़ी
  39. एक रुका हुआ फैसला - कहानी किस्मत की
  40. त्रिदेव - अमर अकबर एंथोनी 
  41. तेरे नाम - राम जाने
  42. राजनीती - घर घर की कहानी 
  43. सरकार - जल बिन मछली नृत्य बिन बिजली
  44. स्वर्ग - घर हो तो ऐसा
  45. दाता - खिलाड़ियों का खिलाड़ी
  46. स्त्री - जय हो
  47. धमाल - चुप चुपके 
  48. फैशन - अंदाज अपना अपना
  49. रोड़ - मंजिल
  50. दस - अब बस!  
मेरा प्रयास अच्छा लगा तो आप भी अपनी तरफ से कमेन्ट में लिखते जाएँ, 
मैं पोस्ट में अपडेट कर दूंगा 
===========================================================
हंसते रहिये विद्वानों का कहना है, हंसने से आदमीं स्वस्थ रहता है। अगर आपको मेरा प्रयास अच्छा लगा तो फेसबुक पेज लाइक कीजिये ताजा अपडेट पाने के लिए। धन्यवाद!

शनिवार, 3 नवंबर 2018

मेरे बेटे को छोड़ने का क्या लोगी?

filmy fun fact
पिक क्रेडिट - pixabay
संवाद घिसा-पिटा 

आमिर बाप का लड़का किसी गरीब लड़की से प्यार करने लगा है। अमीर बाप गरीब लड़की के पास जाता है और कहता है, " मेरे बेटे को छोड़ने का क्या लोगी?" कई अमीर बाप नोटों की गड्डियां लेकर प्यार का सौदा करने निकले, लेकिन हर बार असफल होकर लौटे। अपनी बेइज्जती करवाई सो करवाई, नोटों की गड्डियों की भी बेइज्जती करवा डाली। 

कोई होंशियार छोकरी हो, तो छोकरे को कांफिडेंस में लेकर पहले तो बूढ़े से पांच-दस लाख झटक ले, फिर बोल दे कि "मैंने तेरे छोकरे को छोड़ दिया है। तेरा छोकरा इच मेरे को नहीं छोड़ रहा है। बोल क्या करने का?" तभी इस डायलॉग से पीछा छूटेगा।  

===========================================================
हंसते रहिये विद्वानों का कहना है, हंसने से आदमीं स्वस्थ रहता है। अगर आपको मेरा प्रयास अच्छा लगा तो फेसबुक पेज लाइक कीजिये ताजा अपडेट पाने के लिए। धन्यवाद!

मंगलवार, 30 अक्तूबर 2018

परदेशी को दिल दे बैठना

filmy-fun-fact
पिक क्रेडिट - pixabay
सीन जाना-पहचाना 

भारतीय फिल्म की नायिका अक्सर परदेशी को दिल दे बैठती है। प्रेम के मामले में परदेशी उसकी पहली पसंद होता है। 'मधुमती' फिल्म की मधु हो, चाहे 'राम तेरी गंगा मैली' की गंगा। ऐसी फिल्मों में एक बाबू किस्म का आदमी आता है, जो परदेशी होता है। नायिका उसे पहली नजर में ही दिल दे बैठती है, और वह परदेशी बाबू भी पहली मुलाकात में उसे गर्भवती बना देता है। अब ना जान, ना पहचान, न परदेशी बाबू का पता मालूम। बस, नायिका को पक्का विश्वाश होता है कि उसका परदेशी बाबू एक दिन जरुर आयेगा। 

और साब वह आता भी है , तब तक लड़की की थू-थू होने के बाद, जब उसका बाप आत्महत्या कर लेता है और गाँव वाले उस लड़की को गाँव से निकल देते हैं, तब आता है, पर परदेशी आता जरुर है।

=========================================================
हंसते रहिये विद्वानों का कहना है, हंसने से आदमीं स्वस्थ रहता है। अगर आपको मेरा प्रयास अच्छा लगा तो फेसबुक पेज लाइक कीजिये ताजा अपडेट पाने के लिए। धन्यवाद!

शुक्रवार, 26 अक्तूबर 2018

तुम इन्सान के रूप में देवता हो

filmy fun fact
पिक क्रेडिट - pixabay

सीन जाना पहचाना :

फिल्मों में किसी ने किसी पर जरा सा अहसान किया नहीं कि वह सामने वाले को देवता बना लेता है। खासकर बुढा आदमीं। तूफानी रात में एक नौजवान एक लड़की को उसके घर पहुँचाने जाता है, तो उस लड़की का बुढा बाप सदियों से एक ही संवाद बोलता आया है, ' बेटा, तुम इन्सान के रूप में देवता हो।'
जवाब में वह नौजवान कहता है, ' जी ये तो मेरा फर्ज था।' 

एक खुबसुरत लड़की को उसके घर पहुंचा देना कोई फर्ज-वर्ज नहीं है। अगर यह फर्ज है, तो दुनिया का हर आदमीं इस फर्ज को निभाने के लिए तेयार मिलेगा, बल्कि दो फर्ज निभाने वाले टकरा गए, तो आपस में कहीं लड़ ना पड़े कि ' ये तो मेरा फर्ज है, इसे मैं निभाऊंगा। तूं कोई और तूफान में फंसी लड़की ढूंढ। 

========================================================
हंसते रहिये विद्वानों का कहना है, हंसने से आदमीं स्वस्थ रहता है। अगर आपको मेरा प्रयास अच्छा लगा तो फेसबुक पेज लाइक कीजिये ताजा अपडेट पाने के लिए। धन्यवाद!

रविवार, 21 अक्तूबर 2018

ईमानदार गरीब माँ

filmy fun fact
पिक क्रेडिट - pixabay
फिल्मों में सम्बन्ध भेद 

फ़िल्मी गरीबी का ईमानदारी से गहरा रिश्ता होता है। जैसे दुनियाभर की ईमानदारी का ठेका उसके ही पास हो। एक गरीब फ़िल्मी माँ है। उसका एक गरीब बेटा है। बेटा स्मगलिंग करके चार पैसा कमाने लगता है। ज्यों ही माँ को मालूम पड़ता है, तो बुढिया ऐसे बिफरती है की पूछो ही मत, 'जा अपने आपको कानून के हवाले कर दे।' अरे! पुलिस कौनसी दूध की धूली है। बेचारा बेरोजगार था। एक धंधा सामने दिख गया, सो करने लगा। जमाने के साथ चल रहा है। धंधा बुरा है, तो ज्यादा से ज्यादा लडके को समझा दे कि बेटा, आइन्दा से यह काम मत करना, लेकिन नहीं, कहेगी, "मैं इस पैसे को हाथ भी नहीं लगाउंगी। मैं तुम्हारा घर छोड़ दूंगी।"
फिर वह किसी स्मगलर के घर बर्तन साफ कर लेगी, लेकिन स्मगलर बेटे का दिया नहीं खाएगी।

===========================================================
हंसते रहिये विद्वानों का कहना है, हंसने से आदमीं स्वस्थ रहता है। अगर आपको मेरा प्रयास अच्छा लगा तो फेसबुक पेज लाइक कीजिये ताजा अपडेट पाने के लिए। धन्यवाद!

शनिवार, 20 अक्तूबर 2018

विलन का नृत्य प्रेम

कहानी पूरी फ़िल्मी है
पिक क्रेडिट - pixabay
फिल्मों में सम्बन्ध भेद 

कहते हैं, जो आदमी जितना बुरा होता है, वह उतना ही ज्यादा कला से दूर होता है, लेकिन हमारी फिल्मों के विलन का नृत्य कला से गहरा रिश्ता होता है। नाचती हुई हिरोइन के एक-एक भाव और भंगिमा को वह कला समीक्षक की तरह देखता है। हिरोइन का एक नृत्य देखने के लिए वह कई-कई लोगों को अपहरण करके बांध देता है और उसे नाचने के लिए मजबूर करता है।

विलन के इस तरीके की आप बुराई कर सकते हैं, लेकिन उसके नृत्य प्रेम की तारीफ करनी चाहिए। पुलिस उसे अरेस्ट करने के लिए पहुंचने ही वाली है। हीरो उसे यमलोक भेजने के लिए बस आने ही वाला है।

इन सभी बातों से वो वाकिफ भी है। इसके बावजूद वह जिस समर्पण भाव से नृत्य देखता रहता है, वह उसे नृत्य में योगदान देने वालों की अगली कतार में खड़ा करता है। 

===========================================================
हंसते रहिये विद्वानों का कहना है, हंसने से आदमीं स्वस्थ रहता है। अगर आपको मेरा प्रयास अच्छा लगा तो फेसबुक पेज लाइक कीजिये ताजा अपडेट पाने के लिए। धन्यवाद!

बुधवार, 17 अक्तूबर 2018

अन्तर्मुखी प्रेम

कहानी पूरी फ़िल्मी है
पिक्चर क्रेडिट - pixabay

कहानी पूरी फ़िल्मी है, इस श्रेणी में पुरानी और नई फिल्मो के हास्य पल लिखूंगा, आशा है आपको पसंद आयेंगे।

फिल्मों में प्रेमी भेद

फिल्मों में अन्तर्मुखी प्रेमी वह प्रेमी होता है , जो या तो प्रेम का इजहार करने में देरी कर जाता है या बिलकुल ही नहीं कर पाता। यह दूर से लड़की को देखता रहता है और अंदर ही अंदर खुश होता रहता है। ऐसे प्रेमी-प्रेमिका को घर से भगा ले जाने की बात तो दूर रही, सिनेमा दिखने के लिए ले जाने की भी हिम्मत नहीं जुटा पाते। उधर ऐसे प्रेमियों की प्रेमिकाएं भी कमबख्त जरूरत से ज्यादा अन्तर्मुखी होती है। प्रेमी के साथ किताबों के आदान-प्रदान में, हाव-भाव में, पट्ठी को सब समझ में आ रहा होता है कि अगला अपन पर लट्टू है, लेकिन कह नहीं पा रहा।

अरे भई, वह जुते पड़ने के डर से नहीं कह रहा है, तो तूं ही कह दे। लड़का शरीफ है। तेरा घर भी बस जायेगा और बाप का दहेज भी बच जायेगा। ऐसे प्रेमी अपने प्रेम का इजहार लव लैटर लिख कर करते हैं।